Tuesday, 8 March 2016

झटपट निराली गुजिया (Jhatpat Niralee Gujiya)

आज से हम शुरू कर रहे हैं होली का त्यौहार भुक्खड़ घाट पर, जहाँ अब से होली तक, रोज परोसा जायेगा एक पकवान, और मनाई जायेगी रंगविरंगी, स्वाद भरी होली। 
तो अगर आपके पास भी है कोई निराली सी रेसिपी (पेय, नाश्ता, खाना मीठा) और आप भी भुक्खड़ घाट पर मनाना चाहते हैं होली, तो फटाफट लिख भेजिए हमें अपनी रेसिपी, जिसे हम परोसोंगे अपने दोस्तों के लिए आपकी सुमधुर मुस्कान के साथ. 
आइये यह उत्सव शुरू करते हैं होली की ट्रेडमार्क "झटपट निराली गुजिया" के साथ -


सामग्री -
मैदा 
घी 
करीब एक गिलास ठंडा दूध
एक डिब्बा कन्डेन्स्ड मिल्क 
१ गिलास सूखा दूध का पाउडर 
१०० ग्राम मक्खन 
सूखे मेवे 

विधि -
सबसे पहले कन्डेन्स्ड मिल्क, सूखा दूध का पाउडर, मक्खन को एक मिक्रोएबल बाउल में डाल कर ३ मिनट के लिए हाई पर माइक्रो कीजिये। अब इसे निकालिये और चम्मच से अच्छी तरह मिलाइये। अब फिर से २ मिनट के लिए माइक्रोवेव में रखिये। एक बार फिर निकालिये , मिलाइये और फिर एक मिनट के लिए माइक्रोवेव में रखिये। अब इस मिश्रण को निकालिये। इसमें मखाने, काजू, बादाम, पिस्ता और किशमिश मिलाकर ठंडा होने दीजिये।
अब मैदा में थोड़ा सा घी मिलाकर, ठन्डे दूध से हलके हाथ से मुलायम गूंध लीजिये और इसकी छोटी छोटी पूरी बेल लीजिये। 
अब एक एक पूरी लीजिये, इसके बीच में एक चम्मच मिश्रण रखिये और इसे फोल्ड करके गुजिया का आकार देकर इसके किनारे पानी लगाकर अच्छे से चिपका दीजिये। अब इन किनारों को एक कांटे की सहायता से सील कर दीजिये। 
एक कढ़ाई में घी गरम कीजिये और मद्धम आंच पर इन गुजियायों को हल्का सुनहरा होने तक तलिये।
आपकी झटपट, निराली गुजिया तैयार हैं. इन्हें ठंडा या गरम कैसा भी परोसें और हैप्पी होली बोलें.

1 comment:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " दूसरों को मूर्ख समझना सबसे बड़ी मूर्खता " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete